Home

सन टैनिंग हटाने के घरेलु नुख्से ( Remedies for Sun Tanned Skin)

suntan/sunburn se 5 din me chutkara

सनटैन (suntan)क्या है ?

गर्मी का मौसम आते ही लोगों में सन टैन की शिकायत बढ़ जाती है। स्किन टैन को लेकर लोग काफी चिंतित रहते है। जब सूरज की किरणे डायरेक्ट स्किन पे पड़ती है तब स्किन का रंग कला पड़ जाता है। जिसे सन टैन कहते हैं। सूरज की किरणों के साथ अल्ट्रावायलेट रेज़ भी निकलती है , जो स्किन में उपस्थित मेलेनिन पिग्मेंट का प्रोडक्शन बढ़ा देता है इसी कारण स्किन का कलर डार्क हो जाता है। अल्ट्रावायलेट रेज़ स्किन के लिए बहुत नुकसानदेह होता है। इसके ज़्यादा प्रभाव से स्किन कैंसर होने का भी खतरा होता है। एक बार सन टैन चेहरे या बॉडी के किसी और हिस्से पैर आजाती है तो जल्दी जाता नहीं है। लेकिन इसमें घबराने को कोई बात नहीं है ,थोड़ा समय और स्किन का अच्छे से केयर कर के वापस से अपना स्किन कलर और खूबसूरती पा सकते हैं। महंगे प्रोडक्ट के बाजए घरेलू नेचुरल नुक्से का इस्तेमाल करें तो यह एक बेहतर उपाए होगा।

सन टैन के कारण( What is reason of suntan?):-

१. सन टैन होने के मुख्या कारण मेलानिन पिग्मेंट है। :- हमारे तवचा में मेलानिन पिग्मेंट होती है । जब सूरज की रौशनी स्किन पे पड़ती है तो मेलानिन की मात्रा बढ़ने लगती है ,जिससे स्किन का रंग काला पड़ जाता है । जिसे सन टैन कहते है ।

२. बिना प्रोटेक्शन के धुप में निकलना :- बिना प्रोटेक्शन के धुप में नहीं निकलना चाहिए ,जब भी धुप में निकले तो छाता का प्रयोग करे या फिर चेहरे को ढक के निकले । हमेशा सनग्लास पहन के ही बाहर निकलें।

३.सनस्क्रीन का इस्तेमाल न करना :- सनस्क्रीन सूरज की हानिकारक किरणों से स्किन (त्वचा ) को सुरक्षित रखती है। अगर सनस्क्रीन का इस्तेमाल ना किया जाए तो सूरज की किरणें skin को नुकसान पहुंचाएंगी। धुप में निकलने से पहले हमेशा सनस्क्रीन लगा के ही निकले । हमेशा घर से निकलने के २५-२० मिनट पहले सनस्क्रीन चेहरा, हाँथ और गर्दनों पे अच्छे से लगाए ।

सन टैन हटाए (Home Remedies for Sun Tanned Skin)

१. हल्दी और बेसन पैक:- बेसन स्किन के डेड सेल्स को हटाने में मदद करती हैं और चेहरे से दाग - धब्बे को भी हटाती है ।वहीँ हल्दी से चेहरा पे निखार आता है ।

दो चम्मच बेसन ,एक चम्मच हल्दी और यह बड़ा चम्मच गुलाब जल मिला कर गाढ़ा पेस्ट बना ले ।फिर इसे चेहरे पर अच्छे से लगाए ।२० मिनट लगा रहने दे ।फिर चेहरे को साफ़ पानी से धो ले ।सप्ताह में २ बार ऐसे ही लगाए ।ऐसा करना से चेहरे निखार जायेंगे और सन टैन हट जायेंगे ।

२) दही (Yogurt) एंड हनी:- यौगर्ट सन टैन को काम करने में बहुत इफेक्टिव होता है। दही स्किन को ठंडक देता है और स्किन के डार्कनेस को काम करता है। हनी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होने के कारण यह डैमेज स्किन को ठीक करने में मदद करता है।

२ टी-स्पून कर्ड में १ टी -स्पून हनी मिक्स कर के अच्छा सा लेप तैयार कर ले। इस लेप को अपने चेहरे और हाँथ -पैर पे अच्छे से लगाए। २० मिनट तक लगाए रखे और फिर नार्मल पानी से चहरे को धो ले। हर रोज ये प्रक्रिया दोहयायें सन -टैन से तुरंत छुटकारा मिल जायेगा।

३) अलोएवेरा :- अलोएवेरा एक औषधीय पौधा है। इसका उपयोग बहुत ही फायेदमंद होता है स्किन एंड बॉडी दोनों के लिए। इसमें एंटीबैक्टीरियल तत्व पाया जाता है जो सन रेज़ से डैमेज हुए स्किन को सही करता है। और स्किन टैन हटाने में बहुत ही प्रभावकारी होता है। अलोएवेरा जेल को अपने चहरे और इफेक्टिव एरिया पर लगाए। अलोएवेरा जेल की मोटे परत लगाए। अगर आप यह रात में सोते वक़्त लगा ले और सुबह ठन्डे पानी से धो ले तो बहुत अच्छा है। नहीं तो आप इसे दिन में कभी भी लगा सकते है अपने सुविधा अनुसार। जल्दी और बेहतर रिजल्ट पाने के लिए इसे रोज़ाना लगाएं।

४). निम्बू. :- निम्बू में विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होती है ।निम्बू में प्राकृतिक ब्लीचिंग गुण भी पाया जाता है । ब्लीचिंग गुण होने के कारण यह मेलानिन को कम करता है । सनटैन के कारण जो स्किन का कलर डार्क हो जाता है उसे कम करता है और चहरे पर निखार लता है। यह स्किन के डेड सेल को भी हटाने में मदद करता है। निम्बू का रस निकल ले और जहाँ सन-टैन है उस एरिया पर लगाएं । १५ मिनट के बाद चेहरे धो लें । सप्ताह में २ या ३ बार ज़रूर लगाए।

५)आलू :- आलू सनटैन हटाने के लिए एक बेहतर उपाय है । एक साफ़ आलू ले और उसे कद्दूकस कर के उसका रस निकल ले ।आलू के रस को कॉटन बॉल की सहायता से प्रभावित जगह पर लगाएं ।१५ मिनट तक लगा रहने दें फिर साफ़ पानी से धो ले ।हर रोज एक बार लगाए सन टैन चला जायेगा और चेहरे पर निखार व् लाएगा ।

footer
Pretty and Healthy

Email:-prettyandhealthybody@gmail.com

Follow us
Important links

About us
Home
Contact

©2021-2022 Pretty and Healthy- Copyright Reserved

अस्वीकरण :- इस साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उदेश्यों के लिए है। यहाँ पर दी गई जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परिक्षण और उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह लेनी चहिये। किसी भी जानकारी या लेख से हुए नुकशान के लिए यह वेबसाइट जिम्मेदार नहीं होगी।